Categories: देश

Sushant Death Case: सुशांत केस में एक और गिरफ्तारी, NCB ने ड्रग्स कनेक्शन में दीपेश सावंत को किया अरेस्ट

मुंबई. नारकोटिक्स नियंत्रण ब्यूरो (NCB) ने शनिवार को अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत (Sushant Singh Rajput Death Case) से जुड़े मादक पदार्थ मामले की जांच के सिलसिले में राजपूत के निजी स्टाफ सदस्य दीपेश सावंत को गिरफ्तार कर लिया. इसके साथ ही इस मामले में अब तक कुल छह लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. अधिकारियों ने बताया कि दीपेश सावंत को एनडीपीएस कानून की धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया है. उससे सुबह से पूछताछ हो रही थी. एनसीबी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पहले कहा था कि सावंत की भूमिका मामले में एक ‘गवाह’ की है. एजेंसी ने शुक्रवार को इस मामले में शोविक चक्रवर्ती (24) और राजपूत के हाउस मैनेजर सैमुअल मिरांडा को गिरफ्तार किया था.

शोविक एनसीबी की हिरासत में, बॉलीवुड में नारकोटिक्स नेटवर्क की जांच होगी
अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े मादक पदार्थों के मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक की हिरासत प्राप्त करने वाले नारकोटिक्स नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) ने कहा कि वह हिंदी फिल्म जगत में ‘नशीले पदार्थों के नेटवर्क और उनकी पैठ’ की पड़ताल करेगा. एनसीबी ने यहां एक अदालत में कहा कि शोविक चक्रवर्ती ने कई अन्य लोगों के साथ ड्रग्स का लेनदेन किया था. अदालत ने शनिवार को अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती के भाई शोविक चक्रवर्ती और दिवंगत अभिनेता के हाउस मैनेजर रहे सैमुअल मिरांडा को नौ सितंबर तक एनसीबी की हिरासत में भेज दिया.

हिंदी फिल्म उद्योग में मादक पदार्थों को लेकर सांठगांठ के सबूतों के बारे में पूछे जाने पर एनसीबी के दक्षिण-पश्चिम क्षेत्र के उप महानिदेशक एम अशोक जैन ने बल्लार्ड इस्टेट क्षेत्र में अपने दफ्तर के बाहर संवाददाताओं से कहा, ‘सामान्य तौर पर यह हमारे कार्यक्षेत्र का हिस्सा नहीं है लेकिन हमें अब जानकारी मिल रही है. इस मामले ने हमें नेटवर्क तथा किस हद तक इसकी बॉलीवुड में पैठ है, उसके संकेत दिये हैं.’ जैन ने कहा कि एनसीबी के कार्यक्षेत्र में ‘बड़ी मछली की तलाश करना’ और अंतरराष्ट्रीय तथा अंतरराज्यीय ड्रग्स लेनदेन का पता लगाना भी शामिल है, वहीं वह अपनी जिम्मेदारी से नहीं बचेगी तथा उसे इस मादक पदार्थों के मामले में कथित सांठगांठ की जानकारी मिल रही है.शोविक और मिरांडा का कराया जाएगा सामना

उन्होंने कहा, ‘शोविक और मिरांडा को हिरासत में लेने का मकसद लोगों का एक दूसरे से सामना कराना है. इसलिए हम रिया से जांच में शामिल होने को कहेंगे और संभवत: कुछ और लोगों को तलब किया जा सकता है क्योंकि हमें इस बारे में स्पष्टता चाहिए कि किसने क्या किया.’ जैन ने कहा कि एनसीबी के कार्यक्षेत्र में ‘बड़ी मछली की तलाश करना’ और अंतरराष्ट्रीय तथा अंतरराज्यीय ड्रग्स लेनदेन का पता लगाना भी शामिल है, वहीं वह अपनी जिम्मेदारी से नहीं बचेगी तथा उसे इस मादक पदार्थों के मामले में कथित सांठगांठ की जानकारी मिल रही है.

एनसीबी ने दो दिन पहले इस मामले में एक आरोपी की रिमांड की मांग करते हुए अदालत में बताया था कि वह इस मामले में ‘मुंबई में, खासकर बॉलीवुड में मादक पदार्थों की पैठ का पता लगा रही है.’ जैन ने बताया कि वे रिया से जांच में शामिल होने को कहेंगे. उन्होंने कहा, ‘शोविक और मिरांडा को हिरासत में लेने का मकसद लोगों का एक दूसरे से सामना कराना है. इसलिए हम रिया से जांच में शामिल होने को कहेंगे और संभवत: कुछ और लोगों को तलब किया जा सकता है क्योंकि हमें इस बारे में स्पष्टता चाहिए कि किसने क्या किया.’

एजेंसी ने अदालत से कहा कि शोविक का सामना राजपूत के स्टाफ में शामिल रहे दीपेश सावंत तथा अभिनेता की मौत के मामले में मुख्य आरोपी रिया चक्रवर्ती से कराना जरूरी है. शोविक और मिरांडा को शुक्रवार को 10 घंटे की पूछताछ के बाद नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्स्टेंसिस (एनडीपीएस) कानून की विभिन्न धाराओं के तहत रात में गिरफ्तार किया गया था. एनसीबी ने अदालत से कहा कि अन्य मामले सामने आये हैं जहां परिहार का शोविक और मिरांडा से संपर्क हुआ था.

एनसीबी ने बताया कि मामले में पहले गिरफ्तार आब्देल बासित परिहार ने शोविक के साथ अपने संपर्कों के बारे में बताया. अदालत को बताया गया कि शोविक की हिरासत इसलिए भी जरूरी है क्योंकि एनसीबी को अन्य गिरफ्तार आरोपियों के साथ उसका सामना कराना होगा. एजेंसी ने कहा कि मादक पदार्थों की बिक्री और खरीद में शामिल अनेक नेटवर्कों का खुलासा करना होगा. इससे पहले आज दिन में शोविक और मिरांडा के अलावा एक अन्य आरोपी कैजान इब्राहिम को भी अदालत में पेश किया गया. अदालत ने कैजान को न्यायिक हिरासत में भेज दिया. जांच एजेंसी ने उसकी रिमांड की मांग नहीं की थी.

शोविक और मिरांडा के अलावा एनसीबी ने जैद विलात्रा (21) और आब्देल बासित परिहार (23) को भी गिरफ्तार किया है. वे इस समय जांच एजेंसी की हिरासत में हैं. एनसीबी राजपूत की मौत के मामले में मादक पदार्थ वाले कोण से एनडीपीएस कानून की आपराधिक धाराओं के तहत जांच कर रही है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस मामले में उसके साथ एक रिपोर्ट साझा की थी. राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय और एनसीबी विभिन्न कोणों से जांच कर रहे हैं. राजपूत 14 जून को बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में मृत मिले थे. उनकी प्रेमिका रहीं रिया चक्रवर्ती पर उन्हें आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया गया था.


hindi.news18.com

Leave a Comment