मेट्रो प्रोजेक्ट रोकने वाली शिवसेना का दोहरा रवैया: बाल ठाकरे मेमोरियल के लिए कटेंगें 1000 पेड़

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस ने रविवार को ट्वीट करते हुए कहा कि, “बाल ठाकरे के लिये पेड़ काटे जाने को लेकर शिवसेना पर निशाना साधा है। दरअसल, खबर आ रही है कि औरंगाबाद में बाल ठाकरे मेमोरियल के लिए 1000 पेड़ों को काटा जाएगा।” पेशे से बैंकर अमृता फडणवीस ने एक खबर का उदाहरण देते हुए ट्वीट किया है कि, “पाखंड एक बीमारी है। शिवसेना के जल्द ठीक होने की उम्मीद करती हूं। अपनी सुविधा के अनुसार पेड़ काटना या कमीशन के लिए पेड़ काटने की अनुमति देना अक्षम्य है।”

औरंगाबाद के महापौर नंदकुमार घोड़ले ने मीडिया को जारी एक बयान मैं दावा किया है कि “प्रशासन ठाकरे स्मारक के लिए पेड़ों को काटने की इजाजत नहीं देगा।” घोड़ले ने कहा कि, “हम सुनिश्चित करने जा रहे हैं कि स्मारक निर्माण के लिए कोई पेड़ न काटा जाए। उनका संदेश शिवसेना कम्युनिकेशन टि्वटर हैंडल से जारी किया गया। जो ठाकरे के नेतृत्व वाले दल के संचार प्रकोष्ठ का आधिकारिक ट्विटर हैंडल है। इस स्मारक में बाल ठाकरे की प्रतिमा के साथ एक बगीचा भी प्रस्तावित है।” बाल ठाकरे शिवसेना के संस्थापक थे। प्रियदर्शनी पार्क में उनका मेमोरियल बनाया जा रहा है। औरंगाबाद म्युंसिपल कारपोरेशन इसके लिए 1000 पेड़ों को काटकर वहां से हटाना चाहती है। औरंगाबाद नगर पालिका पर फिलहाल शिवसेना का ही कब्जा है। 17 एकड़ में फैला प्रियदर्शनी पार्क औरंगाबाद के बीचों बीच स्थित है। एक घने जंगल की तरह है। लोग यहां टहलने, जोगिंग करने हरियाली के बीच अपना समय व्यतीत करने के लिए आते हैं।

इस पार्क का इस शहर के लिए खासा महत्व है। कई जीव जंतुओं ने भी यहां अपना बसेरा बना रखा है। प्रियदर्शनी पार्क को पक्षियों की 70 प्रजातियों के अलावा तितलियों की 40 प्रजातियों ने अपना बसेरा बनाया हुआ है। जाहिर है पेड़ों को काटना इन जानवरों के घरों को तोड़ने जैसा है। 3 एकड़ में बनने वाले मेमोरियल के निर्माण में कुल 61 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। मराठवाड़ा के औरंगाबाद में बाल ठाकरे मेमोरियल के लिए 1000 पेड़ों को काटा जाएगा। शिवसेना यहां बाल ठाकरे का एक विशाल मेमोरियल बनाने की योजना बना रही है। साथ ही एक बड़ा गैलरी और थियेटर भी बनाया जाएगा। शिवसेना के नियंत्रण वाली औरंगाबाद म्युंसिपल कारपोरेशन में एक फुड कोर्ट और एक म्यूजियम के निर्माण की योजना तैयार की है।

अब तक एएमसी 1200 पेड़ों को काट चुकी है। पर्यावरणविदों ने मांग की है कि औरंगाबाद में बाल ठाकरे मेमोरियल का काम रोका जाए। पेड़ों को काटने के खिलाफ अदालत में पीआईएल दाखिल करने वाले सन्नी खिंवासरा ने कहा कि कितने पेड़ काटे जाएंगे। पीएमसी ने कोर्ट में डाले गए एफिडेविट मैं स्पष्ट नहीं बताया है कि कम से कम कितने पेड़ों को काटा जाएगा। एएमसी ने एक स्थानीय अखबार में 330 पेड़ काटने के लिए टेंडर आमंत्रित किया है। उन्होंने बताया की यह पार्क एएमसी ने सिटी एंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट कारपोरेशन (CIDCO) से ले लिया है और तब से इसकी हालत बदतर होती जा रही है।

इससे पहले, उद्धव ठाकरे ने मुंबई के आरे मेट्रो कार शेड के निर्माण पर रोक लगाने का ऐलान किया था। अक्टूबर में मेट्रो कार शेड़ के लिए काटे जा रहे पेड़ों को बचाने के लिए पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने धरना-प्रदर्शन किया था। आरे कॉलोनी में मेट्रो शेड बनाने के लिए 1500 सौ से ज्यादा पेड़ काट डाले गए थे। उद्धव ने कहा था, “मैंने आरे कार शेड के काम पर रोक लगा दी है। अगले नोटिस तक आरे मैं एक भी पत्ता नहीं काटा जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया था कि आरे कार शेड के निर्माण पर रोक लगाई गई है, मेट्रो परियोजना पर नहीं।”

Leave a Comment