Categories: खेल

मां बनने के बाद सानिया की टेनिस कोर्ट पर वापसी, जीता पहला इंटरनेशनल युगल का खिताब

भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने मां बनने के बाद टेनिस कोर्ट में शानदार वापसी करते हुए शनिवार को डब्ल्यूटीए होबार्ट इंटरनेशनल महिला युगल का खिताब अपने नाम कर दिया। भारतीय टेनिस खिलाड़ी ने लगभग 2 वर्ष के ब्रेक के बाद कोर्ट पर वापसी की है और अपनी दूसरी पारी की शुरुआत करते हुए उन्होंने होबार्ट में खिताब जीता। अपने बेटे इजहान के जन्म के बाद सानिया का यह पहला खिताब भी है। 33 वर्षीय सानिया का यह 42वां डब्ल्यूटीए युगल खिताब भी है।

तीन बार की युगल ग्रैंडस्लैम विजेता सानिया चोट और फिर अक्टूबर 2018 में मां बनने के बाद से 2 साल तक कोर्ट से दूर थी। सानिया ने अपनी जोड़ीदार यूक्रेन की नादिया किचेनोक के साथ महिला युगल फाइनल मुकाबले में दूसरी वरीय पेंग शुआई और झांग शुआई की जोड़ी को 1 घंटे 21 मिनट में 6-4, 6-4 से लगातार सेटों में हराकर खिताब अपने नाम किया। उन्होंने आखिरी बार 2017 में ब्रिसबेन इंटरनेशनल में अमेरिकी जोड़ीदार बेथानी माटेक सैंड्स के साथ खिताब जीता था। वह 2018 और 2019 के डब्ल्यूटीए सत्र में खेलने नहीं उतरी थीं। वहीं, नादिया का पांचवां युगल खिताब है। सानिया-नादिया की गैर वरीयता प्राप्त जोड़ी ने फाइनल में बढ़िया शुरुआत करते हुए चीनी जोड़ी की पहले ही गेम में सर्विस तोड़ी लेकिन अगले गेम में दूसरा सर्वर गंवाया।

सानिया-नादिया की जोड़ी को फिर जल्द ब्रेक मिला और 10वें गेम में आराम से उन्होंने सेट जीत लिया। दूसरे सेट में सानिया-नादिया ने चीनी जोड़ी की सर्विस ब्रेक कर दी और शुरुआती बढ़त कायम की। तो वहीं चीनी जोड़ी ने कई भूलें की। 8वें गेम में विपक्षियों ने फिर भारतीय-यूक्रेनियाई जोड़ी की सर्विस ब्रेक की लेकिन सानिया-नादिया ने 9वें गेम में पेंग-झांग की सर्विस तोड़ी और अगले गेम में सर्विस का मौका हांसिल कर मैच अपने नाम कर लिया। इस जीत से सानिया और नदियां को $13580 की इनामी राशि मिली। दोनों को अलग-अलग 280 रैंकिंग अंक भी मिले।

Leave a Comment