Categories: राजनीति

विमान के अंदर ही धरने पर बैठीं सांसद प्रज्ञा ठाकुर,बोली मुझे नहीं दी गई पसंद की सीट

स्पाइसजेट की विमान से दिल्ली से भोपाल जा रही भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर पसंद की सीट नहीं मिलने से नाराज हुईं। चर्चा रही कि जब विमान भोपाल पहुंचा तो वह विमान में ही धरने पर बैठ गईं। एयरपोर्ट डायरेक्टर के अनुरोध पर करीब 10 मिनट बाद विमान से उतरीं। हालांकि, बाद में साध्वी ने धरने पर बैठने की बात से मना किया। बाद में प्रज्ञा ने संवाददाताओं से कहा, “मैंने विमान में धरना नहीं दिया। मैंने अधिकारियों को बताया कि वास्तव में स्पाइस जेट विमान सेवा का स्टाॅफ यात्रियों के साथ सही व्यवहार नहीं करता है। उन्होंने मेरे साथ पहले भी ठीक से बर्ताव नहीं किया था और आज भी उनका व्यवहार अच्छा नहीं था।” प्रज्ञा ने कहा, “उन्होंने मुझे बुक की गई सीट नहीं दी। मैंने उनसे नियम दिखाने को कहा और नहीं दिखाने पर अंत में निदेशक को बुलाया और अपनी शिकायत दर्ज कराई।”

प्रज्ञा शनिवार शाम को दिल्ली से स्पाइसजेट की उड़ान संख्या SG–2489 से भोपाल जा रही थीं। उन्हें सीट नंबर 2-A दी गई। सांसद चाहती थी कि प्रोटोकॉल के लिहाज से उन्हें सीट नंबर A-1 दी जाय, लेकिन यह सीट पहले से दूसरे यात्री को दी जा चुकी थी। शाम 7:00 बजे विमान भोपाल में राजा भोज एयरपोर्ट पर लैंड हुआ। यहां सभी यात्री उतर गए लेकिन साध्वी नहीं उतरीं। स्पाइसजेट के स्टाॅफ ने भी उनसे नीचे उतरने का अनुरोध किया। लेकिन वह नहीं मानी बाद में एयरपोर्ट डायरेक्टर अनिल विक्रम विमान के अंदर पहुंचे और सांसद से नीचे उतरने का अनुरोध किया। इसके बाद वे विमान से नीचे उतरीं। उनके विमान से समय पर नहीं उतरने के कारण विमान भोपाल से 10 मिनट की देरी से दिल्ली रवाना हुआ। इस दौरान साध्वी ने विमान की सेवाओं में कमी और कर्मचारियों के खराब व्यवहार की शिकायत यहां एयरपोर्ट पर दर्ज करवाई।

भोपाल के राजा भोज हवाई अड्डे के निदेशक अनिल विक्रम ने बताया, “मुझे सीट आवंटन को लेकर शिकायत मिली है। हम सोमवार को मामले को देखेंगे।” सूत्रों ने बताया कि अपनी सीट के आवंटन से नाराज प्रज्ञा भोपाल हवाई अड्डा पहुंचने के बाद भी कुछ समय तक विमान में बैंठी रहीं थी। प्रज्ञा एयरपोर्ट से संत हीरराम जी की कुटिया पर पहुंची। उन्होंने मीडिया से कहा कि स्पाइसजेट की सेवाएं ठीक नहीं है। कंपनी अपनी जिम्मेदारी से मुंह मोड़ रही है। मैंने जो सीट बुक करवाई थी, वह नहीं मिली। मैंने धरना नहीं दिया, लेकिन सेवाओं में कमी की शिकायत दर्ज कराई है। साध्वी ने कहा कि स्पाइसजेट ने इसके पहले भी एक महिला राज्यपाल के आगमन के समय सही सेवा नहीं दी थी।

Leave a Comment