Categories: देश

India-China Faceoff: भारतीय सेना ने बताया लद्दाख का पूरा हाल, कहा- PLA ने उकसाने के लिए हवा में चलाईं गोलियां

India-China Faceoff: भारतीय सेना ने चीन के आरोपी की खोली पोल, बताया कैसे चीनी सैनिकों ने चलाई गोली.

India-China Faceoff: भारतीय सेना (Indian Army) के मुताबिक पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ने 7 सिंतबर को सबसे पहले एक भारतीय फ़ॉरवर्ड पोस्ट के क़रीब पहुंचे थे, जिसे भारतीय सैनिकों ने रोक दिया था. इसके बाद चीन (China) के सैनिकों ने ही कई राउंड फायर किए.

नई ​दिल्ली. नई ​दिल्ली. पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) की सीमा पर हुई फाय​रिंग की घटना पर चीन (China) के दावों को भारतीय सेना (Indian Army) ने खारिज कर दिया है. भारतीय सेना की ओर से कहा गया है भारतीय सैनिकों ने न तो कोई एलएसी का उलंघन किया है न ही कोई फ़ायरिंग की. भारतीय सेना के मुताबिक पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ने 7 सिंतबर को सबसे पहले एक भारतीय फ़ॉरवर्ड पोस्ट के क़रीब पहुंचे थे, जिसे भारतीय सैनिकों ने रोक दिया था. इसके बाद चीन के सैनिकों ने भारतीय सैनिकों को उकसाने के लिए कई राउंड गोलियां चलाईं.

भारतीय सेना ने LAC पर फायरिंग किए जाने के चीन के आरोपों को पूरी तरह से खारिज कर दिया है. भारतीय सेना ने चीन की पोल खोलते हुए कहा है कि ‘चीन अपने बयानों से अपने देश और पूरी दुनिया को गुमराह कर रहा है. सेना ने किसी भी स्थिति में वास्तविक नियंत्रण रेखा को पार नहीं किया है, न ही फायरिंग की है, न ही कोई आक्रामक कदम उठाया है.’

बता दें​ कि भारत-चीन के बीच लद्दाख स्थित वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारतीय सेना की बढ़त को लेकर चीन बौखलाया हुआ है. चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) 29-30 अगस्त की रात लेक स्पांगूर के पास घुसपैठ करने की कोशिश की थी, जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया था. इसके बाद भारतीय सेना ने इलाके की ऊंची चोटी पर भी दोबारा कब्जा जमा लिया, जिसकी खबर बीजिंग पहुंची तो हंगामा खड़ा हो गया. अब इस मामले में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग चीनी सेना और अधिकारियों से काफी नाराज हैं. इसे भी पढ़ें :- India-China Face-off: LAC पर चीन से तनाव के बीच किश्तवाड़ में उतरे फाइटर हेलिकॉप्टर अपाचे

चीनी सेना से राष्ट्रपति शी जिनपिंग हैं खासे नाराज़
पूर्वी लद्दाख की गलवान वैली में करीब 40 जवानों को गंवाने के बाद पैंगोंग इलाके में 29-30 अगस्त की रात को भारतीय सेना की मुस्तैदी के सामने फेल साबित हुए चीनी सेना से राष्ट्रपति शी जिनपिंग खासे नाराज़ बताए जा रहे हैं. चीनी कम्युनिस्ट पार्टी नेतृत्व भी लद्दाख सीमा पर तैनात पीएलए के कमांडर से नाराज है. ऐसा माना जा रहा है कि चीनी सेना के नेतृत्व में जल्द ही बड़े स्तर पर बदलाव देखने को मिल सकते हैं.


hindi.news18.com

Leave a Comment