Categories: देश

सड़क पर आया पूर्व राष्ट्रपति के घर का झगड़ा, पोतों ने माँगा हक़ – जानें पूरा मामला

पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय डॉ शंकर दयाल शर्मा के परिवार में संपत्ति को लेकर तनातनी चल रही है। डॉ शर्मा की पहली पत्नी सावित्री देवी के बेटे सतीश और दूसरी पत्नी विमला शर्मा के बेटे आशुतोष हैं। परिवार के सदस्यों का कहना है कि डॉ शंकर दयाल शर्मा की दिल्ली, भोपाल, इंदौर और रायसेन जिले में करोड़ों रुपए की प्रॉपर्टी है। पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा के 2 पोतों ने मंगलवार को उनसे संपत्ति और किताब से आने वाली रॉयल्टी में आधा हक देने की मांग की है। वहीं सरकार से प्रोटेक्शन दिए जाने के लिए कहा है। उनकी वर्तमान परिस्थितियों का जिम्मेदार भी उन्होंने चाचा आशुतोष दयाल शर्मा को ठहराया है।

पूर्व राष्ट्रपति डॉ शंकर दयाल शर्मा की पहली पत्नी सावित्री देवी के परिवार ने संपत्ति बंटवारे की मांग की है। सतीश दयाल शर्मा की पत्नी शोभा शर्मा और उनके दोनों बेटे सर्वेश दयाल शर्मा और सौरभ शर्मा ने मंगलवार को पत्रकार वार्ता में कहा कि उन्हें अपने दादा (शंकर दयाल) की संपत्ति पर पूरा हक है। लेकिन, आशुतोष दयाल शर्मा यानी डॉ शंकर दयाल शर्मा की दूसरी पत्नी विमला शर्मा के बेटे उन्हें यह हक नहीं दे रहे हैं। सौरभ और सर्वेश ने कहा कि वे चाहते हैं कि दादाजी की संपत्ति सार्वजनिक की जाए और उसमें से उन्हें आधा हिस्सा दिया जाए। हालांकि, उन्होंने स्वीकारा है कि वे कोलार में जिस मकान में रह रहे हैं वह आशुतोष के नाम पर है। लेकिन, कुछ समय से दोनों परिवारों का आपस में कोई संपर्क नहीं है।

सर्वेश दयाल शर्मा व सौरभ दयाल शर्मा ने बताया कि उनके दादा की सभी चल व अचल संपत्ति का ब्योरा सरकार निकाले, चाहे वह बिक चुकी हो। सारी जानकारी एकत्रित कर संपत्ति का आधा हिस्सा और प्रतिमाह उनकी लिखी किताब से आने वाली रॉयल्टी हमें दिलाएं। इसमें उन्होंने बताया कि उनके दादा की सारी चल अचल संपत्ति में उनकी हिस्सेदारी है लेकिन उनके चाचा आशुतोष शर्मा ने चाल चलकर सारी संपत्ति से वंचित कर रखा है। उन्हें दुनिया के सामने स्वयं को उनके दादा का इकलौता वारिस बताया है जो कि सच नहीं है। उन्होंने बताया कि हक मांगने के बाद में वे काफी डरे हुए हैं और उन्हें डराया धमकाया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि दादा की दूसरी पत्नी विमला शर्मा के बेटे आशुतोष दयाल शर्मा पूर्व राष्ट्रपति की सभी चल और अचल संपत्ति का हिसाब रखते हैं और देखरेख करते हैं। इसलिए उन्हें उनकी संपत्ति से बेदखल रखा गया है। उन्होंने चेतावनी दी है कि प्रेम और आपसी सहयोग से उन्हें हिस्सा नहीं मिलता है तो वे अदालती कार्यवाही भी करेंगे।

Leave a Comment