Categories: देश

CAA Protest: बसपा प्रमुख मायावती का भीम पार्टी नेता चंद्रशेखर पर हमला, बताया नौटंकी

बहुजन समाजवादी पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भीम पार्टी के नेता चंद्रशेखर आजाद पर दलित नेता बनने का नाटक करने का आरोप लगाया है। कहा कि दिल्ली में चुनाव होने वाले हैं इसके चलते वह मौके का फायदा उठाने के लिए नागरिकता संशोधन कानून के नाम पर विरोध करने जामा मस्जिद पहुंच गया। उन्होंने कहा कि वह बिना पुलिस की इजाजत के प्रदर्शन कर जानबूझकर जेल गए। उन्होंने अपनी पार्टी के लोगों से अपील की है कि चंद्रशेखर आजाद और उन जैसे अन्य लोगों से सचेत रहें। भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर आजाद ने शनिवार को दिल्ली जामा मस्जिद से जंतर-मंतर तक विरोध मार्च निकाला था। हालांकि, उन्होंने पुलिस से इसकी इजाजत मांगी थी, लेकिन मिली नहीं थी। बाद में पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया और देर शाम उन्हें गिरफ्तार कर लिया। आजाद ने अपनी गिरफ्तारी का विरोध करते हुए कहा था कि इस बात के कोई सबूत नहीं है कि जामा मस्जिद पर जमा भीड़ को दिल्ली गेट तक जाने के लिए उकसाया था। जहां पहुंचकर प्रदर्शनकारी उग्र हो गए थे।

एक के बाद एक ट्वीट कर कार्यकर्ताओं से कहा सचेत रहें
BSP सुप्रीमो मायावती ने एक के बाद एक ट्वीट पर चंद्रशेखर आजाद पर हमला बोला और कहा, “दलितों का आम मानना है कि भीमपार्टी नेता चंद्रशेखर, विरोधी पार्टियों के हाथों खेलकर खासकर BSP के मजबूत राज्यों में षड्यंत्र के तहत चुनाव के करीब व पार्टी के वोटों को प्रभावित करने वाले मुद्दे पर प्रदर्शन आदि करके फिर जबरन जेल चला जाता है।” एक अन्य ट्वीट में मायावती ने लिखा, “अतः पार्टी के लोगों से अपील है कि वे ऐसे सभी स्वार्थी तत्वों, संगठनों व पार्टियों से हमेशा सचेत रहे। वैसे ऐसे तत्वों को पार्टी कभी लेती नहीं है, चाहे वे कितना ही प्रयास क्यों ना कर ले?” एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, “जैसे यह उत्तर प्रदेश का रहने वाला है, लेकिन CAA/NRC पर वह उत्तर प्रदेश की बजाय दिल्ली की जामा मस्जिद वाले प्रदर्शन में शामिल होकर जबरन अपनी गिरफ्तारी करवाता है, क्योंकि वहां जल्दी ही विधानसभा चुनाव होने वाले हैं।”

शनिवार को दिल्ली पुलिस ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान आगजनी और तोड़फोड़ के लिए भीम पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर को गिरफ्तार किया है। यहां चंद्रशेखर भीड़ का नेतृत्व कर रहे थे। पुलिस ने सीलमपुर में हिंसा के लिए पांच और दिल्ली गेट के पास पुरानी दिल्ली से 16 लोगों को गिरफ्तार किया है। भीम आर्मी का विरोध शुक्रवार की नमाज के बाद दोपहर 1:00 बजे बाद शुरू हुआ। जामा मस्जिद में प्रदर्शन में चंद्रशेखर ने भी हिस्सा लिया था। जब पुलिस ने हिरासत में लेने की कोशिश की तो समर्थकों के बीच ओझल हो गए। चंद्रशेखर ने अपनी गिरफ्तारी के खिलाफ जमानत याचिका दाखिल की थी। लेकिन पुलिस ने कोर्ट से उनको 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजने की मांग की। कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने दलील दी थी कि भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं, इसलिए उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा जाना जरूरी है।

Leave a Comment