Categories: देश

बेंगलुरु में आया कोविड-19 रोगी को पुन: संक्रमण होने का पहला मामला, सरकार ने अध्ययन का आदेश दिया

बेंगलुरु में एक कोरोना रोगी को फिर से संक्रमण होने का मामला सामने आया है (News18 क्रिएटिव)

एक अधिकारी ने कहा कि जब कोई कोविड-19 (Covid-19) से उबरता है तो श्वेत रक्त कणिकाओं (White Blood Cells) के उत्पादन में कम से कम 15 दिन लगते हैं और हो सकता है कि कुछ रोगियों में इस वजह से पुन: संक्रमण (reinfection) हो. हालांकि इसे पुन: संक्रमण का निश्चित कारण नहीं माना जा सकता.

बेंगलुरु. बेंगलुरु की 27 साल की एक महिला कोविड-19 (Covid-19) से उबरने के बाद पुन: संक्रमण (re-infection) की जद में आने वाली संभवत: पहली रोगी (First Patient) है जिसके बाद कर्नाटक (Karnataka) के चिकित्सा शिक्षा मंत्री के सुधाकर ने सोमवार को अधिकारियों को इस तरह के मामलों में क्लीनिकल अध्ययन का निर्देश दिया. जुलाई में स्वस्थ (recover) होने और अस्पताल से छुट्टी मिलने के करीब एक महीने बाद महिला में पुन: संक्रमण पर चिंता जताते हुए सुधाकर ने कहा कि इस मामले से सावधानी से निपटना चाहिए और लोगों के बीच आशंकाओं को दूर करने के प्रयास होने चाहिए. सुधाकर के कार्यालय ने एक बयान में कहा, ‘‘मंत्री डॉ के सुधाकर ने अधिकारियों को निर्देश (instructions) दिया है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण पुन: होने के मामले में क्लीनिकल अध्ययन किया जाए.’’

फोर्टिस अस्पताल में दूसरी बार कोरोना वायरस संक्रमित (Coronavirus Infected) पाई गयी महिला का जिक्र करते हुए मंत्री (minister) ने कहा कि कई अन्य देशों में इस तरह के मामले सामने आये हैं और प्रत्येक देश ने इसके पीछे अलग वजह बताई है. बयान के अनुसार एक अधिकारी ने कहा कि जब कोई कोविड-19 (Covid-19) से उबरता है तो श्वेत रक्त कणिकाओं के उत्पादन में कम से कम 15 दिन लगते हैं और हो सकता है कि कुछ रोगियों में इस वजह से पुन: संक्रमण (re-infection) हो. हालांकि इसे पुन: संक्रमण का निश्चित कारण नहीं माना जा सकता. बयान में कहा गया, ‘‘इस पर प्रतिक्रिया देते हुए मंत्री ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के पुन: संक्रमण पर स्थित स्पष्ट करने को कहा है और संबंधित अधिकारियों को रिपोर्ट देने को कहा है.’’

दूसरी जांच रिपोर्ट में संक्रमण नहीं होने की पुष्टि के बाद 24 जुलाई को छुट्टी दी गई थी
बन्नेरघट्टा रोड स्थित अस्पताल ने कहा कि महिला शहर में कोविड-19 के पुन: संक्रमण से ग्रस्त पहली पीड़ित है. अस्पताल के संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ प्रतीक पाटिल ने कहा कि जुलाई के पहले सप्ताह में रोगी को बुखार, खांसी और गले में खराश के लक्षण थे और उनकी जांच रिपोर्ट में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया और वह स्वस्थ हो गयीं.यह भी पढ़ें: भारत को मिला US समेत 4 देशों का साथ, चीन से भारत आईं Apple की 8 फैक्ट्रियां

महिला को दूसरी जांच रिपोर्ट में संक्रमण नहीं होने की पुष्टि के बाद 24 जुलाई को छुट्टी दे दी गयी. पाटिल ने एक बयान में कहा कि करीब एक महीने बाद अगस्त के शुरू में उन्हें दोबारा हल्के लक्षण उभरे और उनकी जांच रिपोर्ट में फिर से संक्रमण की पुष्टि हुई.


hindi.news18.com

Leave a Comment